What is Story defination ao padhen कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर

What is Story defination कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर मित्रों आज हम जानेगें की कहानी क्या होती है और उसकी परिभाषा क्या होती है बहुत रोचक टोपिक है | इसमें आपको कहानी के बारे में पूरी जानकारी दी है जो की आपके deled के द्वितीय सेमेस्टर से जुडी हुई है|

कहानी(Story)

कहानी हिंदी साहित्य में गध्य लेखन की एक विधा है| उन्नीसवीं सदी में गध्य साहित्य में एक नयी विधा का विकास हुआ , जिसे ‘कहानी’ के नाम से जाना जाता है| बंगला में इसे ‘गल्प’ कहा जाता है| मनुष्य के जन्म के साथ-साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना तथा सुनना मानव का आदिम स्वाभाव बन गया| इसी कारन से प्रत्येक सभ्य तथा असभ्य समाज में कहानियां पाई जाती हैं| हमारे देश में कहानियों की बड़ी लम्बी उर संपन्न परंपरा रही है| वेदों, उपनिषदों में वर्णित ‘यम-यमी’ , पुरुरवा-उर्वशी , ‘सौपणी-काद्रव’ , संत कुमार-नारद, गंगावतरण जैसे आख्यान कहानी के ही प्राचीन रूप हैं|

१९१० से १९६० के बीच हिंदी कहानी का विकास जीतनी गति के साथ हुआ उतनी गति किसी अन्य साहित्यिक विधा के विकास में नहीं देख जाती | सन १९०० से १९१५ तक हिंदी कहानी के विकास का पहला दौर था|

What is Story defination कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर

What is Story definition कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर

प्राचीन काल में कहानियां

प्राचीन काल में सदियों तक प्रचलित वीरों तथा राजाओ के शौर्य , प्रेम, न्याय, वैराग्य, ज्ञान,साहस, समुद्री यात्रा , अगम्य पर्वतीय प्रदेशों में प्राणियों का अस्तित्व आदि की कथाएं , जिनके कथानक घट्ना प्राधान हुआ करते थे , ये भी कहानी के ही रूप हैं| ‘गुणाढय’ की ‘वृहत्कथा’ को जिसमें ‘उदयन’ , ‘वासवदत्ता’, समुद्री व्यापारियों , राजकुमार तथा राजकुमारियों के पराक्रम की कथाओं का बाहुल्य है, और इन्हें ही प्राचीनतम रचना कहा जाता है|

हिंदी के लेखकों में “प्रेमचंद” पहले ऐसे व्यक्ति है जिन्होंने अपने तीन लेखों में कहानी के सम्बन्ध में अपने विचार व्यक्त किये है- “कहानी (गल्प) जिसमें जीवन के किसी एक अंग या किसी एक मनोभाव को प्रदर्शित करना ही लेखक का उद्देश्य रहता है| उसके चरित्र , उसकी शैली, उसका कथा-विन्यास, सब उसकी एक भाव को पुष्ट करते हैं|

उपन्यास की भांति उसमें मानव जीवन का सम्पूर्ण तथा बृहत रूप दिखाने का प्रयास नहीं किया जाता| वह ऐसा रमणीय उद्यान नहीं जिसमें भांति-भांति के फूल, बेल-बूटे सजे हुए हैं, बल्कि एक गमला है जिसमें एक ही पौधे का माधुर्य अपने समुन्नत रूप में दिखाई देता है|”

कहानी की और भी परिभाषाएं हो सकती है, पर किसी भी साहित्य विधा को वैज्ञानिक परिभाषा में बांधा नहीं जा सकता , क्योंकि साहित्य में विज्ञान की सुनिश्चितता नहीं होती| इसलिए इसकी जो भी परिभाषा दी जाएगी वह अधूरी है|

कहानी की परिभाषा-(Story defination)

“कहानी एक छोटी आख्यानात्मक रचना है, जिसे एक बैठक में पढ़ा जा सके , जो पाठक पर एक समन्वित प्रभाव उत्पन्न करने के लिए लिखी गई हो, जिसमें उस प्रभाव को उत्पन्न करने में सहायक तत्वों के अतिरिक्त और कुछ न हो और जो अपने – आप में पूर्ण हो|”

कहानी के महत्वपूर्ण तत्व-

  1. कथावस्तु
  2. ‘पात्र’ तथा ‘चरित्र-चित्रण’
  3. कथोपकथन अथवा संवाद
  4. देशकाल अथवा वातावरण
  5. भाषा-शैली
  6. उद्देश्य
What is Story definition कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर

मित्रों हमारे अन्य पोस्ट पढ़ने के लिए यहाँ नीचे दिये हुए लिंक पर क्लिक करें-

What is Story defination कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर

कहानी के ढांचे को कथानक अथवा कथावस्तु कहा जाता है | प्रत्येक कहानी के लिए कथावस्तु का होना अनिवार्य है, क्योंकि इसके अभाव में कहानी की रचना की कल्पना भी नहीं की जा सकती |

कथानक के चार अंग माने जाते है-

  1. आरम्भ
  2. आरोह
  3. चरम स्थिति
  4. अवरोह

कहानी सुनना

कहानी सुनना या पढ़ना किसे अच्छा नहीं लगता| बच्चों में भाषा के विकास के लिए उन्हें कहानी सुनाना एक महत्वपूर्ण संसाधन है. जरूरत इसे पहचानने और कक्षा शिक्षण में जगह देने की है बच्चों की भाषा के विकास में सुनने का गहरा महत्त्व है| इस सुनने के संसाधन को अगर ठीक से इस्तेमाल किया जाये तो वह उसकी भाषा विकास में महत्वपुर्ण भूमिका निभा सकता है | सुनाने की एक गतिविधि है कहानी |

भारत में विकास और तेजी से फैलते शहरों में फिल्मों और टीवी सीरियलों का बोलबाला है |कहानियां सुनाने की पुरानी परंपरा ख़त्म होती जा रही है, लेकिन कुछ जगहों में इसे बचाने की कोशिश चल रही है|

कहानी सुनाने की नानी की आदत अब शोधकर्ताओं के काम आ रही है यह दिलचस्प और मजेदार है और कहानी सुनने के बाद लोग बहस करते है की यह किस चीज के बारे में था , लोग अच्छा महसूस करते हैं और यह बौद्धिक और भावना के स्तर पर अच्छा है, ज्यादातर लोगों को याग पसंद आता है, ज्यादातर युवा पढाई और नौकरी करने के लिए गावों को छोड़कर शहरों की तरफ जा रहे हैं| इसकी वजह से युवा इस परंपरा से दूर होते जा रहे हैं|

पुराने ज़माने में दादी-नानियाँ किस्से सुनाना , अज भी बहुत से परिवारों में बच्चों को कहानी सुनाकर सुलाने की परंपरा है, एक सर्वे के अनुसार बच्चों को जीवन में मिलने वाली कामयाबी में इसका भी अहम् योगदान होता ही| बच्चों को किताब पढ़कर कहानियां सुनाने का एक लाभ यह भी होता ही की बाद में चलकर उनके भी नियमित रूप से पढ़ने की आदत लगती है इसका असर किताबों के कारोबार पर भी पड़ता है|

कहानी याद रखना

हमारी स्मृति कैसे काम करती है या फिर किसी भी चीज को हम कैसे याद रख पाते हैं? स्मृति हमारे मस्तिष्क में किस प्रकार संग्रहीत होती है? हम किसी चीज को क्यों भूल जाते है, और कुछ चीजे भुलाये नहीं भूलती? इन मूलभूत प्रश्नों ने मानव -मन को सदा से ही आंदोलित किया है तथा इनके उत्तर देने के समय-समय प्रयास भी किये गए है| हमारे अन्दर भी पुराणी बातों को याद रखने की क्षमता होती है, हम किसी व्यक्ति,स्थान,घटना और स्थितियों- परिस्थितियों को याद करते रहते है| उसने कुछ न कुछ सीखते हैं, फिर उन्हें आगे अनुभवों और ज्ञान के रूप में सुरक्षित कर लेते हैं| हमारे आगे का व्यवहार इसके द्वारा नियंत्रित होता है कि हमने क्या सीखा?

मित्रों अगर आप हमारे साथ हमारे यूट्यूब चेनल से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करे

 www.youtube/Aopadhen

What is Story defination कहानी व उसकी परिभाषा द्वितीय सेमेस्टर  के बारे में आपको पूरी जनकरी ऊपर दी है मित्रों आपको हमारा पोस्ट पसंद आया हो तो आप इसे सोश्ल मीडिया Facebook, Whatsapp के द्वारा अपने मित्रों को साझा कर सकते हैं। और अपने सुझाव और शिकायत हमें कमेंट करें जिससे कि हम अपनी गलतियों को सुधार सकें इसके लिए हमें आपके सहयोग कि जरूरत रहेगी धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *