तर्क किसे कहते हैं? What is Argument?

What is Argument तर्क किसे कहते हैं? मित्रों आज हम तर्क के बारें में विस्तार से जानेंगे कि तर्क है क्या अगर आप इसके बारे में नहीं जानते हो तो आप आज जान जाओगे पूरी जानकारी नीचे दी गई है।

Argument तर्क

जब मनुष्य के सामने कोई कठिन समस्या उत्पन्न होती है यो वह उस समस्या का समाधान करने हेतु चिंतन करना प्रारम्भ कर देता है अर्थात विचार करना प्रारम्भ कर देता है। इस प्रकार की विचारात्मक प्रक्रिया को तर्क कहते है। तर्क, पूर्व अनुभवों के आधार पर नवीन कल्पना की सृष्टि की जाती है।

वुडवर्थ महोदय के अनुसार-“ तर्क को मानसिक अनुसंधान एवं कल्पना को मानसिक प्रहसन कहा जा सकता है।“

मन के अनुसार-“ तर्क अतीत के अनुभवों को इस प्रकार मिलना है की समस्या का समाधान हो जाए ।“

तर्क के स्तर और चरण

तर्क प्रक्रिया के निम्नलिखित चार स्तर हैं-

1-सामाग्री का संग्रह करना- तर्क प्रक्रिया का सबसे पहला स्तर सामाग्री का संग्रह करना है। इस स्तर के अनुसार सर्वप्रथम व्यक्ति समस्या का समाधान करने हेतु स्मृति तथा निरीक्षण के द्वारा समस्या संबंधी कुछ आवश्यक तथ्यों का संग्रह करना पड़ता है।

2-सामाग्री का पारस्परिक संयोग- इसमें स्मृति तथा निरीक्षण द्वारा प्राप्त तथ्यों को परस्पर संयुक्त किया जाता है। उसके बाद इस बाद का निरीक्षण किया जाता है की इन तथ्यों में आपसी संबंध क्या है? इस स्तर पर जो तथ्य अनावश्यक प्रतीत होते हैं उन्हें छोड़ दिया जाता है तथा समस्या का समाधान करने के लिए महत्वपूर्ण प्रश्नो का चयन कर लेते हैं।

3-संयुक सामाग्री की गर्भित बातों को देखना- इस स्तर पर संयुक्त सामाग्री की गर्भित बातों को समझते हुए नियम निर्धारित करना पड़ता है। जिसकी बुद्धि जितनी अच्छी होगी वह उतना ही उपयुक्त नियम निर्धारण करने में सक्षम हो सकता है। क्योंकि बुद्धिमान व्यक्ति संयुक्त सामग्री के सम्बन्धों को अच्छी तरह पहचान लेता है तथा इस पहचान प्रक्रिया के द्वार नियम निर्धारण कर देता है।

4-प्राप्त निष्कर्ष परीक्षण करना- तर्क प्रक्रिया का अंतिम स्तर है, प्राप्त निष्कर्ष की परीक्षा कर्ण। इस स्तर पर जो नियम निर्धारित किए जा चुके हैं। उनका नवीन निरीक्षण द्वारा परीक्षण करते हैं की ये नियम सत्य हैं या नहीं । प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक जे.एन.सिन्हा के अनुसार-“ तर्क में मुख्य बाद सामग्री का मानसिक अनुसंधान और नवीन संबंध की प्राप्ति है। मनोवैज्ञानिक मुख्यतया अनुमान की प्राप्ति कराने वाली अनुसंधानात्मक प्रक्रिया का अनुशीलन करता है। तर्क शास्त्र मुख्यतः अनुमान का अनुशीलन करता है।“

तर्क किसे कहते हैं What is Argument?

What is Argument?
तर्क किसे कहते हैं What is Argument?

तर्क के प्रकार-

  • आगमन तर्क- आगमन तर्क वह है जिसमें नाना प्रकार के सिद्धांतो के किसी सामान्य नियम पर पहुँच जाता है। आगमन तर्क को तीन स्तरों से गुजरना पड़ता है- (i)निरीक्षण (ii) prayog (iii) नियम
  • उपमान तर्क- उपमान तर्क में एक तथ्य की दूसरे तथ्य से तुलना कर एक की दूसरे में उपमा दी जाती है।
  • निगमन तर्क- निगमन तर्क में सिद्धान्त अथवा नियम को किसी विशेष परिस्थिति में लागू कर उसकी सत्यता सिद्ध की जाती है। निगमन प्रक्रिया तीन स्तरों से होकर गुजरती है-
  1. समस्या- किसी समस्या अथवा परिस्थिति का समाधान करना है।
  2. नियम- इस समस्या पर कौन-सा नियम लागू किया जा सकता है।
  3. अनुमान- इस नियम से क्या अनुमान लगाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें –What is Naturalism? प्रकृतिवाद क्या है?

वंशानुक्रम क्या है? What is inheritance?

तर्क की विशेषताएँ-

तर्क की प्रमुख विशेषताएँ अग्रलिखित हैं-

  1. चिंतन की एक लंबी प्रक्रिया- तर्क की प्रक्रिया अधिक समय तक चलती है। सामान्य रूप से किसी जटिल तथा गंभीर समस्या के उत्पन्न होने के साथ-साथ तर्कपूर्ण चिंतन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है तथा जब तक समस्या का अभीष्ट समाधान प्राप्त नहीं हो जाता तब तक तर्क की प्रक्रिया चलती रहती है । इस प्रकार समस्या की गंभीरता एवं जटिलता के अनुसार ही तर्क की प्रक्रिया कम या अधिक समय तक चलती है।
  2. तर्क में अंतर्दृष्टि की भूमिका- तर्क की प्रक्रिया में व्यक्ति अंतर्दृष्टि या सूझ द्वारा बहुत कार्य करता है। तर्क में अंतर्दृष्टि के योगदान के ही कारण अनेक बार तर्क की प्रक्रिया में संबंधित समस्या और अभीष्ट समाधान एकाएक प्राप्त हो जाता है।
  3. समस्या के समाधान के उद्देश्य- तर्क संबन्धित समस्या के उद्देश्य के औचित्य को प्रकट करता है। यदि तर्क से संबन्धित समस्या का उद्देश्य प्रयोजनमुक्त होता है तो तर्क की प्रक्रिया तीव्र गति से चलती है। और शीघ्र ही समाधान मिल जाता है।

ये आपके लिए – आज का सवाल-

तर्क के बारे में अपना अनुभव बताएं? आपको हमारा ये पोस्ट(What is Argument तर्क किसे कहते हैं?) कैसा लगा? क्या इसमें कोई जानकारी हमसे छूट गई है। या आपके मन में कोई शिकायत या सुझाव है तो कृपया हमें कमेंट करें जिससे की हम आपके लिए और बेहतर कार्य कर सकें। यदि आपको हमारे पोस्ट पसंद आते हैं तो आप इसे अपने मित्रों को भी Whatsapp,Facebook आदि पर शेयर करें और कमेंट करके जरूर बताएं जिससे हमें और उत्साह मिल सके और हम आपके लिए और जरूरी पोस्ट लिख सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *