UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020

UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020 का आयोजन उत्तर-प्रदेश बेसिक सिक्षा बोर्ड (UPBEB) द्वारा किया जाता है| UP TET Exam यूपी के विद्यालयों में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर के शिक्षकों की भर्ती के लिए आयोजित की जाती है| यह राज्य स्तर की परीक्षा है| यह एक वार्षिक परीक्षा है| यह परीक्षा लिखित माध्यम से आयोजित की जाती है|

यूपी टीईटी परीक्षा पाठ्यक्रम UP TET Syllabus Primary 2020

यूपी टीईटी २०२० की परीक्षा के दो पेपर होंगे | पहला पेपर उन उम्मीदवारों के लिए है जो १ से ५ वीं कक्षा को पढाना चाहते हैं| और दूसरा पेपर उन उम्मीदवारों के लिए है जो कक्षा ६ से 8 वीं कक्षा को पढाना चाहते हैं| दोनों परीक्षा के पाठ्यक्रम अलग-अलग हैं| यहाँ पर पको दोनों पेपर के पाठ्यक्रम मिलेंगे|

पेपर-१ पाठ्यक्रम (कक्षा १ से ५ तक के लिए )

१-बाल विकास और अध्यापन

  • बाल विकास का अर्थ, आवश्यकता और क्षेत्र, बाल विकास की अवस्थाएं शारीरिक विकास, मानसिक विकास, संवेगात्मक विकास, भाषा विकास -अभिव्यक्ति क्षमता का विकास , सृजनात्मकता एवं सृजनात्मक क्षमता का विकास|
  • बाल विकास के अधर एवं उनको प्रभावित करने वाले कारक – वंशानुक्रम,वातावरण (पारिवारिक,सामाजिक,विद्यालयी संचार माध्यम)

सीखने का अर्थ और सिद्धांत

  • अधिगम(सीखने) का अर्थ, और प्रभावित करने वाले कारक, अधिगम की प्रभावशाली विधियाँ|
  • अधिगम के नियम- थोर्नडाइक के सीखने के मुख्य नियम एवं अधिगम में उनका महत्त्व|
  • अधिगम के प्रमुक सिद्धांत तथा शिक्षण में इनकी व्यावहारिक उपयोगिता, थोर्नडाइक का प्रयास एवं त्रुटी का सिद्धांत , कोहलर का सूझ एवं अंतर्दृष्टि का सिद्धांत, प्याजे का सिद्धांत, व्योगात्सकी का सिद्धांत , सीखने का वक्र- अर्थ एवं प्रकार, सीखने में पठार का अर्थ और कारण एवं निवारण |

शिक्षण एवं शिक्षण विधियाँ

  • शिक्षण का अर्थ तथा उद्देश्य,सम्प्रेषण, शिक्षण के सिद्धांत, शिक्षण के सूत्र, शिक्षण प्रविधियां, शिक्षण की नवीन विधाएं(उपागम), सूक्ष्म शिक्षण एवं शिक्षण के आधारभूत कौशल|

UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020

UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020
UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020

समावेशी शिक्षा निर्देशन एवं परामर्श

  • शैक्षिक समावेशन से अभिप्राय , पहचान, प्रकार, निराकरण यथाः अपवंचित वर्ग, भाषा, धर्म, जाति, क्षेत्र, वर्ण, लिंग, शारीरिक दक्षता( द्रिश्तिबधिता,श्रवणबाधिता एवं वाक् /अस्थिबाधित ) मानसिक दक्षता|
  • समावेशन के लिए आवश्यक उपकरण, सामग्री, विद्यां, T.L.M. (टीचिंग लर्निंग मटेरियल) एवं अभिवृत्तियां|
  • समावेशित बच्चों का अधिगम जांचने हेतु आवश्यक टूल्स एवं तकनीक|
  • समावेशित बच्चों के लिए विशेष शिक्षण विधियाँ | जैसे ब्रेल लिपि आदि|
  • समावेशी बच्चों हेतु निर्देशन एवं परामर्श- अर्थ ,उद्देश्य , प्रकार , विधियाँ, आवश्यकता एवं क्षेत्र|
  • परामर्श में सहयोग देने वाले विभाग/संस्थाएं:-
  1. मनोविज्ञान शाला उत्तर – प्रदेश प्रयागराज
  2. मंडलीय मनोविज्ञान केंद्र (मंडल स्तर पर)
  3. जिला चिकित्सालय
  4. जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में प्रशिक्षित डायट मेंटर
  5. पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण तंत्र
  6. समुदाय एवं विद्यालय की सहयोगी समितियां
  7. सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन
  • बाल-अधिगम में निर्देशन एवं परामर्श

अधिगम एवं अध्यापन

  • बालक किस प्रकार सोचते और सीखते हैं; बालक विद्यालय प्रदर्शन में सफलता प्राप्त करने में कैसे और क्यों असफल होते हैं?
  • अधिगम और अध्यापन की बुनियादी प्रक्रियाएं , बालकों की अधिगम कार्य नीतियां , सामाजिक , क्रिया-कलाप के रूप में अधिगम, अधिगम के सामाजिक सन्दर्भ|
  • एक समस्या समाधान कर्ता और एक वैज्ञानिक अन्वेषक के रूप में बालक|
  • बालक में अधिगम की वैकल्पिक संकल्पना, अधिगम, प्रक्रिया में महत्वपूर्ण चरणों के रूप में बालक की त्रुटियों को समझना|
  • क्रोध एवं संवेदनाएं|
  • प्रेरणा और अधिगम|
  • अधिगम में योगदान देने वाले कारक- निजी एवं पर्यावरणीय|

२- भाषा-1

(क) हिंदी (विषय-वस्तु)-

  • अपठित अनुच्छेद |
  • हिंदी वर्णमाला (स्वर, व्यंजन)|
  • वर्णों के मेल से मात्रिक तथा अमात्रिक शब्दों की पहचान|
  • वाक्य रचना|
  • हिंदी में सभी ध्वनियों के पारस्परिक अंतर की जानकारी|
  • हिंदी भाषा की सभी ध्वनियाँ,वर्ण, अनुस्वार, अनुनासिक एवं अयोग्वाह में अंतर|
  • संयुक्ताक्षर एवं अनुनासिक ध्वनियों के प्रयोग से बने शब्द|
  • सभी प्रकार की मात्रा|
  • विराम-चिन्ह जैसे- अल्प-विराम, अर्धविराम,पूर्णविराम, प्रश्नवाचक,विस्मयबोधक चिन्हों का प्रयोग|
  • विलोम, समानार्थी, तुकांत, अतुकांत, समान ध्वनियों वाले शब्द|
  • संज्ञा,सर्वनाम,क्रिया एवं विशेषण के भेद|
  • वचन , लिंग, एवं काल|
  • प्रत्यय, उपसर्ग, तत्सम, तद्भव व् देशज शब्दों की पहचान एवं उनमें अंतर|
  • लोकोक्तियों एवं मुहावरों के अर्थ|
  • संधि, स्वर संधि, व्यंजन संधि, विसर्ग संधि|
  • वाच्य, समास एवं अलंकार के भेद|
  • कवियों एवं लेखकों की रचनाएँ|

(ख) भाषा विकास का अभ्यास-

  • अधिगम और अर्जन 
  • भाषा अध्यापन के सिद्धांत
  • सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य तथा बालक इसे किस प्रकार उपकरण के रूप में प्रयोग करते हैं|
  • मौखिक और लिंखित रूप में विचारों के सम्प्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिनियम में व्याकरण की भूमिका पर निर्याणक सन्दर्भ
  • एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियाँ, भाषा की कठिनाई , त्रुटियाँ और विकार
  • भाषा कौशल
  • भाषा बोधगम्य और प्रवीणता का मूल्यांकन करना; बोलना, सुनना, पढ़ना, और लिखना 
  • अध्यापन- अधिगम सामग्रियां; पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषी संसाधन|
  •  

३. भाषा-2

अंग्रेजी

  • अद्दश्य मार्ग
  • वाक्य – विषय और भविष्यवाणी , वाक्यों के प्रकार
  • भाषण के कुछ हिस्सों – प्रकार ओएस संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया विशेषण, विशेषण, क्रिया , पूर्वसर्ग , संयोजन के रूप
  • काल – वर्तमान, अतीत, भविष्य
  • सामग्री
  • विराम चिह्न
  • शब्द गठन
  • सक्रिय और निष्क्रिय आवाज
  • एकवचन बहुवचन
  • लिंग

उर्दू

  • अपठित अनुच्छेद।
  • ज़बान की फन्नी महारतों की मुलामात।
  • मशहूर अदीबों एंव शायरों की हालाते जिंदगीएंव उनकी रचनाओं की जानकारी।
  • मुखतलिफ असनाफे अदब जैसे मज़नूम, अफसाना मर्सिया, मसनवी दास्तान वगैरह की तारीफ मअ, अमसाल।
  • सही इमला एंव तलफ्फुज की मश्क।
  • इस्म, जम़ीर, सिफत, मुतज़ाद अल्फाज, वाहिद, मोजक्कर, मोअन्नस वगैरह की जानकारी।
  • सनअते।
  • मुहावरे, जुर्बल अमसाल की मुलाकात
  • मुखतलिफ समाजी मसायल जैसे माहौलियाति आलूदगी नाबराबरी, तालीम बराएअम्न, अदमे, तगजिया की मूलाकात।
  • नज्मों, कहानियों, हिकायतों एंव संस्मरणों में मौजूद समाजी एंव एखलाकी अक्दार को समझना।

संस्कृत

  • अकारांत पुल्लिंग 
  • अकारांत स्त्रीलिंग
  • अकारांत नपुसकलिंग   
  • ईकारांत स्त्रीलिंग
  • उकारांत पुल्लिंग 
  • ऋकारांत पुल्लिंग 
  • ऋकारांत स्त्रीलिंग 
  • दर, परिवार परिवेश, पशु, पक्षियों, घरेलू उपयोग की वस्तुओं के संस्कृत नामों से परिचत|
  • सर्वनाम।
  • क्रियाएं।
  • शरीर के प्रमुख अंगों के संस्कृत शब्दों का प्रयोग।
  • अव्वय।
  • संधि।
  • संखा्याएं।
  • लिंग, वचन, स्वर के प्रकार, प्रत्याहार, व्यंजन के प्रकार, अनुस्वार एंव अनुनासिक व्यंजन।
  • कवियों एंव लेखकों की रचनाएं।

गणित

  • संख्याएं एवं संख्याओं का जोड़, घटाना, गुणा, भाग|
  • लघुत्तम एवं महत्तम |
  • भिन्नो का जोड़, घटाना, गुणा, भाग|
  • दशमलव – जोड़, घटाना, गुणा, भाग|
  • ऐकिक नियम|
  • प्रतिशत|
  • लाभ हानि|
  • साधारण ब्याज|
  • जायमिति – जायमितीय आकृतियाँ एवं पृष्ठ, कोण, त्रिभुज, वृत्त|
  • धन
  • मापन
  • परिमिति
  • कैलेण्डर
  • आंकड़े
  • आयतन, धारिता- घन, घनाभ
  • क्षेत्रफल
  • रेलवे, बस समय- सारिणी
  • आंकड़ों का प्रस्तुतीकरण एवं निरूपण|

पर्यावरणीय अध्ययन

  • परिवार
  • भोजन, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता
  • आवास
  • पेड़-पौधे एवं जंतु
  • मेला
  • स्थानीय पेशे से जुड़े व्यक्ति एवं व्यवसाय
  • जल
  • यातायात एवं संचार
  • खेल एवं खेल भावना
  • भारत-नदियाँ, पठार, वन, यातायात, महाद्वीप, एवं महासागर
  • हमारा प्रदेश
  • संविधान
  • शासन व्यवस्था
  • प्रयावरण -आवश्यकता, पर्यावरण सरक्षण|

नोट-: यह सिलेबस वर्ष २०१९-२० में आयोजित की गई परीक्षा के आधार पर तैयार किया गया है वर्ष २०२०-२१ के सिलेबस में बदलाब होने पर इस पोस्ट को हम अपडेट कर देंगे और आप इसे डेली विजिट करें|

आधिकारिक वेबसाइट- upbasiceduboard.gov.in

यूपी टेट परीक्षा पैटर्न 2020 UP TET Syllabus Primary 2020

इस परीक्षा को दो भागों में आयोजित किया जायेगा जिसमें पहली परीक्षा प्राथमिक के लिए तथा दूसरी परीक्षा उच्च प्राथमिक के लिए है| एग्जाम १ और एग्जाम २ में सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे| प्रत्येक प्रश्न १ अंक का होगा जिसमें कोई नकारात्मक मार्किंग नहीं होगी|

UPTET Pattern 2020 
विषय  प्रश्न अंक 
बाल-विकास  30 30
भाषा-1 (हिंदी) 30 30
भाषा-2 (अंग्रेजी/उर्दू/संस्कृत) 30 30
गणित  30 30
प्रयावरण अध्ययन 30 30
कुल योग 150 150

मित्रों हमारे अन्य पोस्ट पढ़ने के लिए यहाँ नीचे दिये हुए लिंक पर क्लिक करें-

मित्रों अगर आप हमारे साथ हमारे यूट्यूब चेनल से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करे

 www.youtube/Aopadhen

UP TET Syllabus Primary 2020 यूपी टीईटी परीक्षा प्राथमिक पाठ्यक्रम 2020 के बारे में आपको पूरी जनकरी ऊपर दी है मित्रों आपको हमारा पोस्ट पसंद आया हो तो आप इसे सोश्ल मीडिया Facebook, Whatsapp के द्वारा अपने मित्रों को साझा कर सकते हैं। और अपने सुझाव और शिकायत हमें कमेंट करें जिससे कि हम अपनी गलतियों को सुधार सकें इसके लिए हमें आपके सहयोग कि जरूरत रहेगी धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *